_WZnYPlCnd4IlO55X8xQqT_ZD3-qXsA45Zw4Ko-5V1Y

सौमित्र ने खोजा लखनऊ के उन शहीदों के परिवारों को जिन्हें हम आज भूल गए हैं

लखनऊ ।

लखनऊ की धरती वीरों से खाली नहीं है,और इस बात की गवाह है सौमित्र तिवारी की वो किताब जिसमे उन्होंने लखनऊ के उन अमर शहीदों के परिवारों की कहानियां पिरोयीं हैं. देश के लिए अपनी जान कुर्बान करने वाले शहीदों की कहानियां आप और हम कहानियों की तरह सुनकर भूल जाते हैं लेकिन क्या आपने इन शहीद परिवारों के बारे में जानने की कोशिश की है? इन सब सवालों के जवाब हैं सौमित्र की किताब “जरा याद इन्हें भी कर लो” में,लेकिन इससे पहले जान लेते हैं थोडा सौमित्र के बारे में…

15 सालों से हैं संघर्षरत 

Loading...

लखनऊ के ऐशबाग स्थित सौमित्र की यह कहानी लोगों से यह सवाल पूछ रही है की शहीद होने के बाद लोग क्यों उनके परिवार को भूल जाते है। दरअसल सौमित्र पिछले 15 वर्षों से लखनऊ के शहीद के परिवारों के लिए तत्पर हो संघर्ष कर रहे है।सौमित्र द्वारा लिखी गई एक किताब “जरा याद इन्हें भी कर लो” 2005 तक लखनऊ से शहीद हुए वीरों की और उनके परिवारों की कहानी बयां करती है। यह किताब उन्होंने खुद इन शहीद परिवारों के घर जा उनसे मुलाकात कर लिखी है। इस किताब में लिखी बातें आज के समाज पर कई सवाल खड़े करते है। सौमित्र उनके परिवार के विचारों को समाज तक पहुंचाने का कार्य कर रहे है।विडियो में देखिये सौमित्र की कहानी<span data-mce-type=”bookmark” style=”display: inline-block; width: 0px; overflow: hidden; line-height: 0;” class=”mce_SELRES_start”></span>लखनऊ के यूट्यूब चैनेल (RavenRows) ने काफी रिसर्च कर सौमित्र की तलाश की और एक विडियो फोर्मेट में सौमित्र की कहानी बेहद खूबसूरत ढंग से प्रस्तुत की.

Show More

Related Articles