_WZnYPlCnd4IlO55X8xQqT_ZD3-qXsA45Zw4Ko-5V1Y

राम मंदिर के साथ बदलेगी अयोध्या की तस्वीर, इतने वर्ग किलोमीटर में बनेगी नव्य अयोध्या

अयोध्याः राम मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त होने के साथ ही अब रामनगरी अयोध्या के दिन बहुरने वाले हैं। केंद्र सरकार द्वारा गठित श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा राम मंदिर निर्माण की तैयारियां शुरू कर दी गई हैं, तो अब नई अयोध्या बनाने की उम्मीदों को भी पंख लगने लगे हैं। प्रदेश की योगी सरकार भी रामनगरी के विकास का मास्टर प्लान तैयार कर रही है।

राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के साथ ही प्रदेश की योगी सरकार ने रामनगरी की तस्वीर बदलने की तैयारी शुरू कर दी थी। अब इस दिशा में सरकार के प्रयास सामने भी आने लगे हैं। प्रदेश सरकार ने रामनगरी को उच्चीकृत करने के लिए मास्टर प्लान तैयार करने की जिम्मेदारी नगर एवं ग्राम्य नियोजन विभाग को सौंपी है।

विभाग ने टेंडर कराकर मास्टर प्लान तैयार करने का काम कोलकाता की प्रतिष्ठित स्टेसलाइट प्राइवेट लिमिटेड को सौंपा है। अब यह कंपनी नगर निगम, सिंचाई विभाग, विकास प्राधिकरण, राष्ट्रीय राजमार्ग विकास प्राधिकरण, पीडब्ल्यूडी, बिजली विभाग, जलकल आदि विभागों से आंकड़े एकत्रित कर रही है। मास्टर प्लान में मौजूदा संसाधनों-सुविधाओं को शामिल करते हुए नई अयोध्या के विकास का खांका खींचा जा रहा है।

बता दें कि नई अयोध्या 388 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में होगी। सीवर लाइन, पेयजल, बस अड्डा, सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट, पार्क, फारेस्ट, मुख्य आंतरिक मार्ग, आउटर रिंग रोड, झील, तालाब और चौड़ी सड़कें शामिल होंगी। मास्टर प्लान 2031 की जनसंख्या एवं और उसकी जरूरतों को ध्यान में रख कर बन रहा है। इलाके के विधायक वेदप्रकाश गुप्त की मानें तो अगले कुछ माह में मास्टर प्लान तैयार हो जाएगा।

Loading...

इसी हिसाब से केंद्र एवं राज्य सरकार नव्य अयोध्या के लिए धन अवमुक्त करेगी। राम मंदिर के शिलान्यास के लिए आगामी 02 अप्रैल को राम जन्मोत्सव, 08 अप्रैल को चैत्र पूर्णिमा एवं 26 अप्रैल को अक्षय तृतीया की तिथि संभावित मानी जा रही है। प्रशासन की योजना के अनुसार शिलान्यास के मौके पर जब रामनगरी की ओर करोड़ों निगाहें हों, तब तक अयोध्या की सूरत कुछ हद तक बदल चुकी हो। राम की पैड़ी के कायाकल्प, एयरपोर्ट विस्तार व भगवान राम की 251 मीटर ऊंची प्रतिमा नव्य अयोध्या की चमक में चार-चांद लगाएगी। पौराणिक महत्व के कुंडों एवं हेरिटेज पार्क भी विकसित करने की तैयारी चल रही है।

Show More

Related Articles