फेल हुआ कोहली का बड़ा प्रयोग, लौट सकती है यह जोड़ी

नई दिल्लीः टीम इंडिया में आलराउंडरों की फौज तैयार करने के लिए भारतीय टीम मैनेजमेंट स्पेशलिस्ट गेंदबाजों की जगह ऐसे खिलाड़ियों को ज्यादा मौके दे रही है, जो बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों में माहिर हों। हालांकि टीम मैनेजमेंट का यह प्रयोग सफल होता नजर नही आ रहा है।

बता दें कि अगले साल होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप से पहले भारतीय टीम मैनेजमेंट प्रयोग करना चाहता है। इसी के चक्कर में मैनेजमेंट ने कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल स्पिन जोड़ी को तोड़कर सिर्फ एक स्पेशलिस्ट स्पिनर और दो ऑलराउंडर यानी क्रुणाल पंड्या और वॉशिंगटन सुंदर को खिलाने पर जोर दिया, लेकिन यह दांव उलटा पड़ गया है।

बांग्लादेश के खिलाफ हो रही टी-20 सीरीज में युजवेंद्र चहल ही ऐसे स्पिनर हैं जो स्पेशलिस्ट हैं, इसके अलावा क्रुणाल पंड्या और वॉशिंगटन सुंदर को ऑलराउंडर के तौर पर मौका दिया गया हैं। क्रुणाल पंड्या और वॉशिंगटन सुंदर विकेट टेकिंग गेंदबाज साबित नहीं हो रहे हैं, जैसा पहले कुलदीप यादव और चहल की जोड़ी हुआ करती थी।

चहल अपनी असरदार गेंदबाजी से अब भी विरोधी बल्लेबाजों को फंसा रहे हैं। अगर चहल को अपने जोड़ीदार कुलदीप यादव का साथ मिल जाए तो उनका प्रदर्शन और भी अच्छा हो जाता है। वहीं, ऐसे खिलाड़ी जिन्हें थोड़ी बल्लेबाजी और थोड़ी गेंदबाजी आए उनके भरोसे मैच जीतना मुश्किल है।

टी-20 वर्ल्ड कप को देखते हुए कप्तान विराट कोहली ने कहा था कि वे क्रुणाल पंड्या, राहुल चाहर और वॉशिंगटन सुंदर जैसे खिलाड़ियों का आजमा रहे हैं, क्योंकि वे बल्लेबाजी में अधिक गहराई और लगातार 200 से अधिक का स्कोर बनाना चाहते हैं।

बांग्लादेश के खिलाफ मौजूदा टी-20 सीरीज में वॉशिंगटन सुंदर को दो मैचों में सिर्फ एक विकेट मिला जबकि क्रुणाल पंड्या को विकेट ही नहीं मिला वहीं, युजवेंद्र चहल की बात करें तो उन्होंने दो मैचों में तीन विकेट लिए हैं।

Show More

Related Articles