एकमात्र देश, जहां लोगों को जीवित रहते हुए दिया जाता है मरने का अनुभव

सियोल। क्या आपने किसी ऐसी जगह के बारे में सुना है, जहां पर लोग जीवित रहते हुए भी मौत का ट्रायल लेते हों। अगर नहीं, तो आज हम आपको ऐसी ही एक जगह के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां पर जीवन की सबसे कठोर सच्चाई को लोग जीवित रहते हुए ही महसूस करते हैं और उसका ट्रालय लेते हैं। दरअसल दक्षिण कोरिया में लोग जीवत रहते हुए ही अपने अंतिम संस्कार अनुभव की कोशिश करते हैं।

Loading...

यहां पर इससे जुड़ी निःशुल्क सेवा भी दी जा रही है। बताते चलें कि दक्षिण कोरिया के ह्योवोन हीलिंग सेंटर में 2012 से अभी तक कुल 25000 से ज्यादा लोग सामूहिक अंतिम संस्ककार के जरिए अपनी मौत को करीब से अनुभव कर चुके हैं। यही नहीं इसका सबसे बेहतर फायदा यह होता है कि लोगों को अपना जीवन बेहतर करने में काफी मदद मिलती है।

समाचार एजेंसी रायटर्स के मुताबिक 75 वर्षीय चो-जे-हे भी ह्योवोन हीलिंग सेंटर में अपने अंतिम संस्कार का अनुभव कर चुके हैं। उनका मानना है कि मौत को लेकर अगर इंसान सचेत हो जाता है, तो उसके जीवन जीने का तरीका काफी हद तक बदल जाता है। उन्होंने भी इस संस्था के डाइंग वेल कार्यक्रम के दौरान अपने अंतिम संस्कार को अनुभव किया था।

जानकारी के मुताबिक मौत का अनुभव करने के लिए यहां जो कार्यक्रम आयोजित होता है, उस दौरान लोगों को ताबूत के अंदर 10 मिनट बिताने का अनुभव दिया जाता है। यह अनुभव लोगों को काफी झकझोर देने वाला होता है। इसके अलावा सभी ने अपनी वसीयत पर भी दस्तखत किए और खुद के अंतिम संस्कार की तैयारियों की फोटो भी खींचे।

Loading...
Show More

Related Articles