_WZnYPlCnd4IlO55X8xQqT_ZD3-qXsA45Zw4Ko-5V1Y

SWASTHA के साथ फर्जी खबरों पर लगाएगी रोक, ऐसे हुआ खुलासा…

कोरोना वायरस तेजी से भारत में फैल रहा है, जिसकी वजह से 77 लोगों की मृत्यु हो गई है। इसके साथ ही 3,000 से ज्यादा लोग इससे संक्रमित हैं। इस ही बीच फर्जी खबरें भी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वायरस हो रही हैं। यहीं वजह है कि लोगों तक सटीक और विश्वसनिय जानकारी नहीं पहुंच पा रही है।

वहीं  इस समस्या को खत्म करने के लिए विकीपीडीया एक खास प्रोजेक्ट पर काम कर रहा है, जिसका नाम SWASTHA है। इस प्रोजेक्ट का उद्देश्य है कि लोगों तक कोविड-19 वायरस की सही जानकारी पहुंचाई जा सके।

इसके साथ ही विकिपीडिया के प्रोजेक्ट SWASTHA के संस्थापक अभिषेक सूर्यवंशी ने कहा है कि विकिपीडिया के आर्टिकल को सीडीसी और डब्ल्यूएचओ की आधिकारिक साइट की तुलना में लगभग 10 गुना अधिक पढ़ा जा रहा है। वहीं विकिपीडिया के प्लेटफॉर्म पर करीब 10 लाख यूजर्स रोजाना एक आर्टिकल पढ़ रहे हैं। इसके अलावा यूजर्स को लेख में गलत जानकारी को सही करने का विकल्प भी दिया गया है। अभिषेक ने कहा है कि भारत सरकार के कोरोना वायरस से जुड़ी बहुत सारी जानकारी है, जबकि विकिपीडिया के पास यूजर्स हैं पर कंटेंट नहीं है।

इसके साथ ही  उन्होंने आगे कहा है कि हम जल्द ही कंटेंट में सुधार करेंगे और लोगों तक वायरस से जुड़ी सही जानकारी पहुंचाएंगे। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि SWASTHA इस समय भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ मिलकर काम कर रहा है। इसके अलावा SWASTHA को डब्ल्यूएचओ और इस वायरस के विशेषज्ञों का सहयोग मिला है। वहीं, विकिपीडिया ने पिछले महीने कोरोना वायरस से जुड़ी जानकारी हिंदी, बंगला, तमिल, भोजपुरी, अरबी, कन्नड़, मलयालम, तेलुगु और उर्दू भाषा में उपलब्ध कराई थी।

Loading...
Show More

Related Articles